Saturday, October 23, 2021
Google search engine
HomeNewsहिमाचल मंत्रिमंडल ने बनाया रिकॉर्ड, एक साथ चार हजार भर्तियों को मंजूरी

हिमाचल मंत्रिमंडल ने बनाया रिकॉर्ड, एक साथ चार हजार भर्तियों को मंजूरी

शिमला। हिमाचल प्रदेश के इतिहास में आज ऐसा पहली बार हुआ है जब राज्य मंत्रिमंडल द्वारा एक ही विभाग में 4000 पद भरने का निर्णय लिया गया हो। हालांकि मंत्रिमंडल द्वारा हजारों की संख्या में नौकरी के पिटारे खुलते रहे हैं, लेकिन एक ही विभाग में इतनी बड़ी तादाद में पद भरने का निर्णय पहली बार ही लिया गया है। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की अध्यक्षता में आज हुई कैबिनेट बैठक में शिक्षा विभाग में ड्राइंग शिक्षकों के 820 पदों और शारीरिक शिक्षा अध्यापकों के 870 पदों सहित शिक्षकों की विभिन्न श्रेणियों के 4000 पदों को भरने का निर्णय लिया गया है।

इन 4000 पदों में से 2640 पद प्रारंभिक शिक्षा विभाग जबकि 1360 पद उच्चतर शिक्षा विभाग में अनुबंध आधार पर भरे जाएंगे। जानकारी के अनुसार शिक्षकों के विभिन्न पद बैच आधार पर शीघ्रता से भरे जाएंगे।

उल्लेखनीय है कि ड्राइंग टीचर्ज अपनी भर्ती को लेकर पूर्व सरकार के कार्यकाल के दौरान कई दफा सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर चुके हैं। बावजूद इसके उनकी मांगों पर गौर नहीं किया गया। उसके बाद इन शिक्षकों को जयराम सरकार से काफी आशाएं रहीं।

ऐसे में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने भी ड्राइंग शिक्षकों की आशाओं पर खरा उतरते हुए आज प्रमुखता से उनके पक्ष में निर्णय लिया। अब इन शिक्षकों के 820 पदों पर भर्ती होगी। इतना ही नहीं शारीरिक शिक्षा अध्यापकों के भी 870 पद भरे जाएंगे। इस फैसले से बेरोजगार प्रशिक्षुओं में खुशी की लहर है।

बेशक, मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर व उनके नेतृत्व वाली राज्य सरकार के प्रति विपक्ष कितने भी जुबानी हमले बोलें लेकिन जनता को सरकार के कार्य धरातल पर नजर आ रहे हैं। जयराम सरकार अपनी प्रतिबद्धता को प्राथमिकता से पूरा कर रही है।

सीएम जयराम ने शिक्षा विभाग में उक्त पदों पर भर्ती करने का भरोसा दिलाया था जिसे आज पूरा कर लिया गया। हिमाचल में जयराम सरकार द्वारा रोजगार के द्वार अभी और भी खोले जाएंगे इसका इंतजार रहेगा, ऐसा इसलिए क्योंकि जयराम सरकार ने इस वर्ष 30 हजार पद भरने की घोषणा की है। इस दिशा में सरकार ने कदम उठाना शुरू कर दिया है और आज उसका ट्रेलर भी दिखा दिया है।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments

error: Content is protected !!