Monday, June 14, 2021
Google search engine
HomeNewsसैंपल लेने के लिए डीएसपी को ही लगवा दिए चक्कर, फिर जांच...

सैंपल लेने के लिए डीएसपी को ही लगवा दिए चक्कर, फिर जांच को दिन बाद भेजा नमूना…

HIMACHAL NAZAR :- सरकारी दफ्तर हो या अस्पताल अगर आपकी जान पहचान नहीं है तो फिर आप चक्कर लगा-लगा के चप्पल घिसवा बैठेंगे, लेकिन काम फिर भी नहीं होगा. यह बात जग जाहिर है, लेकिन कोरोना के दौर में एक ऐसा मामला सामने आया जहां एक डीएसपी रैंक के अधिकारी को ही चक्कर लगवा दिए गए. डीएसपी का नाम है बिन्नी मिन्हास. दैनिकD जागरण में छपी खबर के मुताबिक पहले तो सैंपल लेने के लिए ही चक्कर लवाए दिए और फिर मात्र 10 दस किलोमीटर दूर जांच के लिए सैंपल भेजने में दो दिन लग गए.

मामला मंडी जिला के सुंदरनगर का है. दरअसल बन्नी मिन्हास इन दिनों डीएसपी बंजार तैनात हैं, लेकिन कोरोना लॉकडाउन के बीच उन्हें पेट पर भीषण दर्द उठा. डीएसपी साहब फर्ज को अव्वल दर्जा देते हुए ड्यूटी पर डटे रहे, लेकिन एक दिन दर्द बर्दाश्त से बाहर हो गया तो पत्थरी की दिक्कत सामने आई और डॉक्टरों ने तुरंत ऑपरेशन करवाने के लिए कहा.

डीएसपी बिन्नी मिन्हास की मोहाली में सर्जरी हुई. इसके बाद वह सुंदरनगर घर लौट आए औऱ क्वारेंटीन हो गए. दो मई को हल्का बुखार आया. चार मई को सिविल अस्पताल सुंदरनगर पहुंचे और सैंपल लेने के लिए कहा. वहां मौजूद कर्मी ने सैंपल लेने से मना कर दिया. 5 मई को आने को कहा 5 मई को सैंपल लिया गया, लेकिन सुंदरनगर अस्पताल से मात्र 10 किलोमीटर दूर नेरचौक मेडिकल कॉलेज सैंपल पहुंचाने में ही मात्र दस दिन लग गए.

यह खबर इसलिए जरूरी है क्योंकि आम आदमी अस्पताल और सरकारी दफ्तारों के रवैये से पहले ही परेशान रहता है और डीएसपी के साथ भी इस तरह के वाक्या पेश आएं तो आप खुद समझ सकते हैं कि व्यवस्थाओं पर आम आदमी की सुनेगा ही कौन. उसे तो बस तीन-चार मेडिकल की भारी टर्म सुनाकर चलता कर दिया जाएगा. साथ ही कोरोना संकट के बीच यह लापरवाही और बड़ी हो जाती है और सरकारी व्यवस्थाओं पर भी कई सवाल खड़े करती है.

RELATED ARTICLES
- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments

error: Content is protected !!